Is working outside the home a big challenge for women?

Hadiya |

Whenever I went to Bhagat Singh Park in our neighbourhood of Khirki/Hauz Rani, I would see a young, pretty woman ironing clothes in a stall in front of the park. Another woman of her age was always with her (clarify). The presswali looked friendly, so I decided to go and talk with her about her life and work. At first I was nervous because I didn’t know if she would even want to talk with me, but when I asked her she said, “Yes!” and she was very excited to share her story. I started asking about her life-journey, and the experience of being a working woman in Delhi. I was also curious to know her relationship to her work space that is fully public.

I am one of six children. My mother had to move with us from Kabul to Delhi on her own, for an indefinite period. I was 11 years old when my family arrived in India. We found a place to live in the locality of Khirki/Hauz Rani, among many other Afghan refugees who, like my family, face an uncertain future. I gradually realized how tough it was to begin a new life in a country that to us was a completely strange world. Everything was so different from Kabul – the people, languages, foods, clothes, customs and social behaviour, especially of the local women. I was shocked to see them freely walking in the streets without covering their heads, in traditional Indian clothes like salwar-kameez, pajama-kurta and sarees that don’t cover the whole body, and to see the young women and girls mostly wearing Western outfits.

In Kabul I had grown up among cousins and other girls of my age in our neighbourhood. As a child I learned quickly that in the typical view the woman’s job is to stay at home and look after her husband, children and household, whereas the man’s job is to earn money and handle all household and other expenditures. While I was growing up I constantly had people telling me that since I was a girl I should not go out of the house alone, but only with family members; and that when I go out I should wear clothes that cover my entire body and a hijab that covered my head. My mother, on the contrary, did not support these conventions. She did not want us to cover our faces, and was against the social custom of keeping daughters inside the home and forcing them to marry at a young age. She considered these practices oppressive and unjust to women. She objected to the niqab (face-veil with an eye-mesh) but was not opposed to the hijab, and herself always covered her head. This confused me and I did not know which custom was correct and should be followed.

I was also not used to the sight of women working in public space, one of the first things I noticed when we came to India. For most women in Afghanistan, it is a big challenge to work outside the house, no matter how open-minded the family. Members of the extended family, near and distant relatives, as well as neighbours will keep bringing up useless social dictums and try to make the working woman feel guilty, as if she is doing something wicked or even seditious. My mother had to deal with this. She was a teacher in a Kabul school that was quite far from our house, and went to work from 9 a.m. to 4 p.m. This meant she could not be at home with me, so I was looked after by my siblings. I was five years old at that time and did not understand the complexity of traditional norms, but even at that age I was aware of my mother being emotionally pressured to leave her job and stay at home to take care of her children. But she did not let these opinions disturb her. She had her own firm convictions and she continued with her teaching.

When I first approached the presswali at her ironing stall outside Bhagat Singh Park, I expected her to ask me questions such as why I was interested in her life, or where I come from. I even expected her to refuse to talk with me. But she never hesitated to discuss any topic. Her name is Diya and she is 28 years old, married, a mother of two boys. Her life is quite hard as she has to continuously be on her feet ironing at her stall for long hours. Regardless of the season, whether it is raining hard or hellishly hot, she stands there and keeps on working.

Diya and her husband used to wash and iron people’s clothes for a living. Five years ago her husband lost the use of both legs in a car accident. They had no money for treatment and medications, but their relatives helped a lot financially. Her husband could no longer work. He stayed at home to look after their two small sons. It was a great struggle for Diya as she had to physically take care of him as well as the two children. Each day was filled with high tension and she herself had to stop working for a while. After a few months she realized that she could not keep depending on other people for money, so she decided to open her ironing stall again. She is the only earner and takes care of all household expenditure, including her husband’s treatment, children’s school fees, and daily food and basic needs. She could not afford this with just her income from washing and ironing, so she took on domestic work in two nearby houses.

Diya’s day begins at 5 am. She gets her sons ready, packs their lunchboxes and takes them to school. She returns home, makes breakfast for herself and her husband, and then goes to open her stall. She knows that if she burns or loses her customers’ clothes, or if they get torn or stained, she may get into much trouble. Some customers understand her situation and don’t say anything, but others get angry and scold her, and sometimes refuse to pay, or even want a refund. Once she burned a sari and the owner screamed at her so loudly that a crowd began to gather around the stall. So she tries to be extra careful while using the iron.

At 1 p.m. Diya takes a break and goes to pick up her boys from school. They go home and she prepares lunch for the family. Then she goes back to the stall and continues working till 4 pm, when she closes the stall and goes to do cleaning and cooking work in two houses, finishing by 7 pm. By then it is dark and there are not many people around in the streets, so usually one of her relatives comes to her and walks her home. Delhi is really unsafe for women, especially from late evening onwards. Diya has not had any trouble so far in public space at night, but she does have a sense of fear. She follows the news and knows that women on their own are often assaulted, so she has to always be careful when she is outside the house.

Diya has a good relationship with the people around her workspace and also has many close friends. The police has never harassed her, but sometimes when her husband comes to visit her at the stall, local teenage boys laugh at him and call him insulting names. This breaks Diya’s heart but she tries to ignore the humiliation by focusing even more on her family. She wants to be a strong support to her husband because he has suffered a lot since he lost his mobility.

For me, Diya is a real superwoman, doing two demanding jobs, taking care of her husband, raising two children. It is a hard life. And there are many other Indian women like her who work all day to support their family. Actually this is also true of Afghanistan. Women do domestic chores and manage their households in their expected role, and even though society disapproves of women working outside the home, many women also go to jobs outside, wearing chadari (burqa/full-length outer robe with a face-mesh) when they are in public.

For quite a long time after we started living in Delhi, I held on to the mindset that women should not work outside the home. Talking in depth with Diya and seeing other women like her has helped to drastically change this belief and my other traditional beliefs about women’s work, especially their work in public spaces. I have a good example within my own family now – my two sisters are working in Gurgaon as cashiers in a Middle Eastern restaurant.


क्या महिलाओं के लिए बाहर काम करना एक बड़ी चुनौती है ?

हादिया |

मैं जब भी खिड़की-हौजरानी के भगत सिंह पार्क में जाती थी तो पार्क के सामने हमेशा एक ख़बसूरत और जवान औरत को कपड़ों पर प्रेस करते देखती थी। प्रेस करते वक़्त उसके साथ एक हमउम्र औरत होती थी। उसका मिजाज ख़ासा दोस्ताना था। मुझे उसकी ज़िंदगी और कामकाज के बारे में बात करने का शुरुआती हौसला उसकी इसी ख़ुशमिजाजी से ही मिला। शुरू में मैं थोड़ा घबराई हुई थी: क्या पता वह मुझसे बात करने के लिए तैयार भी होगी या नहीं। लेकिन जब मैंने उससे बात करने की इच्छा जाहिर की तो उसने झटपट हां भर दी, और मुझे अपनी कहानी सुनाने के लिए ख़ुशी-ख़ुशी तैयार हो गयी। मेरे सवालों की शुरुआत उसकी अब तक की जिंदगी और दिल्ली में उसके कामकाज से जुड़े तजुर्बों से हुई। मैं उससे यह भी जानना चाहती थी कि उसका अपने काम की ठीहे के साथ किस तरह का रिश्ता है। गौरतलब है कि वह जिस जगह प्रेस करती है, वह एक सार्वजनिक जगह है।
मेरे छह भाई-बहन हैं। मां हमें काबुल से दिल्ली अपने बूते पर लाई थी। तब यह तय नहीं था कि यहां हम कितने समय तक ठहरेंगे। जब मेरा परिवार भारत आया तो मैं ग्यारह साल की थी। हमें रहने की जगह खिड़की-हौजरानी में मिली। अफगानिस्तान से आए दूसरे शरणार्थी भी इसी जगह रहते थे। मेरे परिवार की तरह इन शरणार्थियों का भविष्य भी अधर में लटका था। फिर मुझे धीरे-धीरे एहसास हुआ कि एक पूरी तरह अजनबी मुल्क में दुबारा जिंदगी शुरु करना कितना मुश्किल होता है। यहां की हर बात: लोगबाग, जबान, खान-पान, कपड़े, रीति-रिवाज और सामाजिक सुलूक वगैरह काबुल से एकदम जुदा थी। मैं ख़ास तौर पर यहां की औरतों को देखकर दंग थी। औरतों को सलवार-कमीज या साड़ी में खुले सिर घूमते-फिरते और जवान लड़कियों को पश्चिमी (वेस्टर्न) फैशन के कपड़ों में देखकर मैं ठगी सी रह गयी थी।
काबुल में मैं अपने पड़ोस के हमउम्र भाईयों और लड़कियों के बीच पली-बढ़ी थी। मैंने यह बात बचपन में ही समझ ली थी कि औरतों का काम घरबार संभालना तथा पति और बच्चों की देखभाल करना होता है, जबकि पैसा कमाने और घर व बाहर के ख़र्चे उठाने की ज़िम्मेदारी मर्द लोगों के हिस्से में आती है। बढ़ती उम्र के दौरान लोगबाग मुझे हमेशा यह नसीहत देते रहते थे कि चूंकि मैं लड़की हूं इसलिए मुझे कुनबे के लोगों की मौजूदगी के बिना कभी अकेले बाहर नहीं जाना चाहिए। मुझे यह भी बताया जाता था कि जब भी घर से बाहर निकलूं तो मेरे कपड़®ं से होने चाहिए जिनमें मेरे शरीर का कोई भी हिस्सा उघड़ा दिखाई न दे, और मेरा सिर हमेशा हिजाब से ढका होना चाहिए। मेरी मां ऐसी हिदायतों के ख़िलाफ थी। वह हमसे चेहरा ढकने के लिए नहीं कहती थी। वह लड़कियों को घर के भीतर महदूद रखने और उनकी कम उम्र में शादी कर देने की सामाजिक रिवायत का भी विरोध करती थी। वह इन रिवायतों को औरतों के साथ जबरदस्ती और नाइंसाफी की तरह देखती थी। वह चेहरे और आंखों को निक़ाब से ढकने के ख़िलाफ थी, लेकिन हिजाब से उन्हें कोई दिक़्क़़त नहीं थी। ख़ुद उनका सिर भी हमेशा हिजाब से ढका रहता था। उन्हें देखकर मैं उलझन में पड़ जाती थी कि निकाब और हिजाब में कौन सी रिवायत ठीक है और मुझे किसका पालन करना चाहिए।
मैंने औरतों को कभी सार्वजनिक जगहों पर काम करते हुए भी नहीं देखा था। भारत पहुंचने के बाद मेरा ध्यान सबसे पहले इसी बात पर गया था। अफगानिस्तान में औरतों की एक बड़ी आबादी के सामने बाहर काम करना भारी चुनौती की तरह होता है। इस मामले में परिवार की खुली सोच और जहनियत से भी फर्क़ नहीं पड़ता। कामकाजी औरत को कुनबे के बाक़ी सदस्य, दूर और नजदीक के रिश्तेदार, यहां तक पड़ोसी भी को समाज की फ़िजूल रिवायतों की याद दिलाते रहते हैं। वे औरत के भीतर ऐसी भावना भरने में लगे रहते हैं कि जैसे बाहर काम करके वह कोई ख़तरनाक गुनाह कर रही है। मेरी मां को भी यही सब झेलना पड़ा था। वह काबुल के एक स्कूल में पढ़ाती थी। वहां वह सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक काम करती थी। उसका स्कूल घर से ख़ासा दूर पड़ता था। मेरे लिए इसका मतलब यह था कि मेरी देखभाल की ज़िम्मेदारी मेरे भाई-बहनों के हवाले कर दी गयी थी। उस वक़्त मैं केवल पांच साल की थी, और मुझे सामाजिक रिवायतों की पेचीदगियों का अंदाजा नहीं था। लेकिन, तब भी मुझे इस बात का एहसास था कि मां पर नौकरी छोड़ कर पूरी तरह घर बैठ जाने और बच्चों की देखभाल करने का भावनात्मक दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन, वह लोगों की राय से परेशान नहीं हुई। वह अपनी बात पर अटल रही और बदस्तूर स्कूल जाती रही।
भगत सिंह पार्क के सामने जब मैं प्रेसवाली से पहले-पहल मिली थी तो मुझे लगा था कि वह भी मुझसे पलट कर पूछेगी कि मैं उसकी जिंदगी के बारे में क्यों जानना चाहती हूं या मैं कौन हूं और कहां से ताल्लुक रखती हूं। मैं यह भी मान कर चल रही थी कि वह मुझसे बात करने से इनकार भी कर सकती है। लेकिन, उसने किसी भी मुद्दे पर झिझक नहीं दिखाई। उसका नाम दिया और उम्र 28 साल है। वह शादीशुदा है और दो बच्चों की मां है। प्रेस करते वक़्त वह उसे कई घंटे पैरों पर खड़े रहना होता है। इस लिहाज से उसकी जिंदगी सक़्त मुश्किलों से भरी है। ताबड़तोड़ बारिश हो या दोपहर में आग बरसती हो- दिया मौसम की परवाह किए बगैर अपने ठीहे पर हमेशा काम में जुटी रहती है।
दिया और उसका पति कपड़ों की धुलाई और उन पर प्रेस करने का काम किया करते थे। पांच साल पहले उसका पति एक कार-दुर्घटना में अपने दोनों पैर गंवा बैठा। उनके पास इलाज और दवाईयों के लिए कोई पैसा नहीं था। उस आड़े वक़्त में उनके रिश्तेदारों ने ख़ूब मदद की। दुर्घटना के बाद उसका पति काम करने लायक नहीं रह गया था। वह घर पर रहकर अपने दोनों बेटों को संभालता था। दिया के लिए यह भारी मुसीबत की घड़ी थी क्योंकि एक तरफ उसे पति की देखभाल करनी होती थी तो दूसरी ओर बच्चों का भी ख़याल रखना होता था। हर दिन तनाव रहता था। इस कारण दिया को कुछ समय के लिए अपना काम भी बंद करना पड़ा। चंद महीने गुजरने के बाद दिया को एहसास हुआ कि पैसों के लिए वह दूसरे लोगों का मुंह नहीं जोह सकती। इसलिए, उसने अपने ठीहे पर दुबारा काम शुरू करने का फैसला किया। परिवार में अकेले वही कमाती है। घर और पति के इलाज के ख़र्च, बच्चों की फीस, खानपान की चीजें और बुनियादी जरूरतों की पूर्ति अब उसी की ज़िम्मेदारी है। चूंकि इतना लंबा-चैड़ा ख़र्चा कपड़ों की धुलाई और प्रेस के काम से पूरा नहीं हो सकता था, इसलिए उसे पड़ोस के घरों में आया का काम भी ढूंढना पड़ा।
दिया का दिन सुबह पांच बजे शुरू होता है। सुबह उठकर वह बच्चों को तैयार करती है और फिर उनके लिए लंच बनाकर, उन्हें स्कूल छोड़ने जाती है। घर लौट कर वह अपने और पति के लिए नाश्ता तैयार करती है और इसके तुरंत बाद अपने ठीहे की ओर निकल जाती है। वह इस बात को बख़ूबी समझती है कि अगर किसी ग्राहक का कपड़ा जल जाए, गुम हो जाए, फट जाए या उस पर दाग लग जाएं तो वह गहरी मुसीबत में फंस सकती है। कुछ ग्राहक दिया की हालत को समझते हैं। ऐसी स्थिति में वे चुप लगा जाते हैं, लेकिन बहुत से ग्राहक ऐसे भी हैं जो उस पर बरस पड़ते हैं: कभी वे दिया क® उसका मेहनताना नहीं देते तो कभी कपड़े की कीमत लेने से मना कर देते हैं। एक बार उससे किसी की साड़ी जल गयी तो उससे साड़ी की मालकिन उस पर इतने जोर से चिल्लाने लगी कि आसपास लोगों की भीड़ जमा हो गयी। इसलिए प्रेस करते वक़्त वह बहुत एहतियात बरतती है।
दिन में 1 बजे दिया अपने काम से कुछ समय के लिए छुट्टी लेती है। इस दौरान वह स्कूल से अपने बच्चों को लाती है और घर पहुंच कर उनके लिए खाना तैयार करती है। इसके बाद वह वापस ठीहे पर लौट जाती है और 4 बजे तक काम करती रहती है। प्रेस का काम पूरा करने के बाद वह दो घरों में साफ-सफाई करने चली जाती है। उसका यह काम 7 बजे तक पूरा होता है। इस समय तक अंधेरा होने लगता है। रास्तों पर लोगों का आना-जाना कम हो जाता है। ऐसे में अक्सर उसका कोई रिश्तेदार उसे घर तक छोड़ने जाता है। औरतों के लिए दिल्ली वाक़ई सुरक्षित जगह नहीं है। शाम के बाद यहां डर का साया और गहरा होने लगता है। दिया के साथ वैसे तो रात के समय बाहर रहते हुए आज तक कोई हादसा नहीं हुआ है, लेकिन ऐसे वक़्त पर वह डरा हुआ महसूस करती है। वह इस बात से बाख़बर रहती है कि लोगबाग अक्सर अकेली औरतों को शिकार बना लेते हैं। इसलिए जब वह घर से बाहर होती है तो हमेशा होशियार रहती है।
अपने ठीहे के आसपास रहने वाले लोगों के साथ दिया अच्छे संबंध रखती है। यहां उसके कई क़रीबी दोस्त भी हैं। पुलिस ने भी कभी उसके साथ बुरा सुलूक नहीं किया है। लेकिन, जब कभी उसका पति ठीहे पर मिलने आता है तो आसपास के लड़के उस पर फब्तियां कसते हैं और उसका मजाक बनाने लगते हैं। उनके बर्ताव से दिया को बहुत दुख होता है लेकिन वह इस अपमान को एक तरफ रखकर अपने परिवार पर और ज़्यादा ध्यान देने लगती है। वह अपने पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहती है क्योंकि पैर गंवाने के बाद वह लाचार हो गया है।
मेरी नजर में दिया सचमुच की सुपरवूमन है। उसने एक साथ दो-दो काम संभाल रखे हैंः वह अपने पति का ख़याल रखने के साथ बच्चों की परवरिश भी करती है। उसकी जिंदगी बहुत मशक़्क़त से भरी है। हिंदुस्तान में और भी ऐसी बहुत-सी औरतें हैं जो अपने परिवार के गुजारे के लिए दिन भर काम में जुटी रहती हैं। वैसे, यह बात अफगानिस्तान पर भी लागू होती है। वहां भी औरतें घरेलू जि़्ाम्मेदारियों को अच्छी तरह निभाती हैं। हालांकि वहां का समाज औरतें के बाहर काम करने को अच्छा नहीं मानता, लेकिन इसके बावजूद बहुत-सी औरतें वहां भी चादरी (शरीर को आंखों से पैर तक ढके रहने वाला कपड़ा) पहन कर सार्वजनिक जगहों पर काम करने जाती हैं।
दिल्ली आने के बाद मैं भी लंबे समय तक इसी सोच में गिरफ्तार रही कि औरतों को बाहर जाकर काम नहीं करना चाहिए। दिया के साथ लंबी बातचीत और उस जैसी दूसरी कामकाजी औरतों को देखने के बाद मेरा यह नजरिया पूरी तरह बदल गया है। इससे मुझे उन पुरानी रिवायतों से बाहर आने में भी मदद मिली जो औरतों के बाहर काम करने को नीची निगाह से देखती हैं।

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑