Do dress codes matter?

Farha |
I was a very small child when my mother explained to me our national custom of women and girls wearing long skirts, long sleeves and covering their heads with a scarf. The social belief in Somalia was that women and girls who wear short or revealing garments attract the eyes of men, and are giving men a chance to flirt with them, follow them, maybe even kidnap and rape them. This message was repeated over and over: females should always wear clothes that fully cover their bodies, because it was dangerous to do otherwise. The men in my city used to stare at women and teenage girls in the streets but not at me because I was so young that I did not even have to wear a hijab. My mother told me that if I dressed in the right manner when I was older, no one would bother me.

I was six years old when we arrived in Delhi as refugees from Somalia. We found a place to live in Hauz Rani. Many refugees from Afghanistan, the Middle East and Africa live here. The narrow lanes of this locality are always crowded, mostly with men. At first I felt very uncomfortable whenever I was outside, because all the men stared at me. At the age of seven I began attending a school in nearby Khirki Extension. At that time my head was uncovered, but my mother said I was now old enough to wear hijab and dress differently, as my childish short clothes might provoke the local men to harass or sexually abuse me. Since then I have been following the daily practice of wearing long skirts, long sleeves and a head scarf.

This belief about one’s clothes attracting the unwanted attention of men also exists in Indian culture, though women and girls here don’t necessarily change their way of dressing, and traditional clothes like the saree do keep part of the body exposed. This view is shared by Sunita, a Hindu lady who owns a small grocery shop near Krishna Mandir at Khirki Extension, down the lane from where I live. On the day I first went to her to ask about her life-story, she was wearing a saree, revealing half of her belly, her arms, her neck, chest and back. She said that her parents forbade her to wear Western clothes and insisted that she wore modest clothes like kurtas and salwar-suits. In middle age she still follows the rules about dress that she learnt as a child.

Sunita is 56 years old, married with two sons. She has been running her grocery shop for almost ten years. Earlier she worked in people’s homes, cooking food and cleaning houses as a maid. She did this for five years, but stopped because it was too exhausting, and she found it difficult to move from house to house. The traditional way of thinking is girls should stay home and do household chores and their mothers should stay home and run the household. But in some cases when girls are doing the domestic work, it frees their mothers to work outside the house. Sunita did not want to just sit at home. So she decided to try and earn money by selling plants and flowers in the locality. Unfortunately she had to stop doing this because people used to rebuke her, saying things like “Go and find a proper job instead of roaming around the area with your plants! Or stay inside your house!”

Such comments made Sunita angry and she thought she would give up this work and stay home. But she was used to her independence because her parents had always given her freedom to work outside the house. So with the help of her sons she decided to open a grocery shop in Khirki Extension, near Krishna Mandir. They bought the shop for Rs 20 lakhs. She has not had to face any negative public comments since taking up this work.

When Sunita first opened her shop it was a struggle because few people came to it. Now after almost ten years of shop-keeping business, she has a good reputation and good relationship with her customers. She also has a good relationship with other shops and vendors in that street. The locals trust her and she trusts them, so she often gives them goods on credit. Most of her customers are men, because of the large male migrant population in the area. A transgender group living here also takes goods on credit. She has a gentle and kind nature, so she forgives creditors who don’t pay her.

Sunita’s two sons earn by organizing tents for marriage receptions. I asked her why she doesn’t stay home and let her sons support her since they are making enough money at their job. She said, “One of my sons is married and his wife is sick, so we have medical expenses. My sons don’t have continuous work all year round. Also, as I get older the habit of staying at home will make me lazy. To prevent this I come to my shop every single day, and I will run it for as long as I still have the strength to work on my own without anyone’s help or company.”

Sunita has noticed a drop in the number of customers over the past couple of years. One reason is that large grocery shops and supermarkets have opened in the surrounding areas. She says, “Why would someone prefer coming to my small simple shop rather than buying from a big fancy place that can be easily reached? Even my long-term daily customers who have a good relationship with me have started going to the bigger outlets.” Another reason is the online grocery shopping and home delivery offered by big companies. She remarks, “People are getting lazier by the day. They just prefer sitting at home rather than going outside.”

Sunita closes her shop at 10 pm. I asked her if she is afraid of working alone late at night, because Delhi is so unsafe for women and because women on their own in the street are often kidnapped and sexually assaulted. She replied, “No, I do not have to be afraid as I know my neighbourhood very well.” This helped me to understand that it is not just observing a dress code that protects women in traditional cultures when they are outside the house. More important is the relationship that women have with the people around them and in their work spaces and the locality in general. If these relationships are good, they give women the confidence to move about freely in the streets and to work in public spaces without fearing physical violence and social criticism and judgement.


क्या औरतों की वेषभूषा का कोई अर्थ होता है ?

फ़रहा |

मां ने जब मुझे यह बताया कि हमारी राष्ट्रीय रीति के तहत औरतें और लड़कियां लंबी स्कर्ट व लंबी बाजू वाले कपड़े पहनती हैं और अपने सर को स्कार्फ से ढक कर रहती हैं तो मैं एक बहुत छोटी सी बच्ची थी। सोमालिया के समाज में यह धारणा प्रचलित थी कि छोटे व खुले कपड़े पहनने वाली औरतें और लड़कियां मर्दों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। ऐसा करके वे मर्दों को छेड़छाड़, पीछा करने, अगुआ कर लेने, यहां तक कि बलात्कार करने का मौका देती हैं। मेरे बचपन में यह संदेश बार-बार दोहराया जाता था- औरतों को हमेशा ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जिनमें उनका शरीर ढक जाए क्योंकि इसकी अनदेखी करने का नतीजा ख़तरनाक होता है। मेरे शहर में मर्द लोग सड़कों पर आती जाती औरतों और लड़कियों को घूरते रहते थे। लेकिन उनकी निगाह मुझ तक नहीं आती थी क्योंकि तब मैं इतनी छोटी थी कि मुझे हिजाब पहनने की जरूरत ही नहीं थी। मेरी मां कहा करती थी कि अगर वयस्क होने के बाद मैं सही ढंग के कपड़े पहना करुंगी तो मुझे कोई परेशान नहीं करेगा।

जब मैं एक शरणार्थी के रूप में सोमालिया से दिल्ली आई तो मैं छह बरस की थी। हमें रहने की जगह हौज़ रानी में मिली। यहां अफ़ग़ानिस्तान, मध्यपूर्व और अफ्रीका से आए बहुत से शरणार्थी रहते हैं। इस इलाक़े की संकरी गलियां हमेशा मर्दों से भरी रहती हैं। शुरू में मुझे बाहर निकलना अच्छा नहीं लगता था क्योंकि सारे मर्द मुझे टकटकी बांधकर देखने लगते थे। सात बरस की उम्र में मैंने खिड़की एक्सटेंशन के नज़दीक स्थित एक स्कूल में जाना शुरू किया। उस वक़्त मेरे सिर पर कोई कपड़ा नहीं रहता था, लेकिन मां मुझसे कहने लगी थी कि मैं अब काफ़ी बड़ी हो गयी हूं और मुझे अब अपने सर पर हिजाब के साथ अलग तरह के कपड़े पहनने चाहिए क्योंकि मेरे ये बच्चों जैसे कपड़े आसपास के मर्दों को मेरे साथ छेड़छाड़ और यौन-दुर्व्यवहार के लिए उकसा सकते हैं। उस दिन से आज तक मैं लंबी स्कर्ट और लंबी बाजू वाले कपड़ों के साथ सर पर हिजाब पहनती आ रही हूं।

किसी औरत के कपड़े मर्दों की गंदी नज़र का कारण बन सकते हैं- यह विश्वास भारतीय संस्कृति में भी पाया जाता है। लेकिन, यहां यह बात जरूर है कि औरतें और लड़कियां इससे डर कर कपड़े पहनने का ढंग का नहीं बदलती। साड़ी जैसे पारंपरिक परिधान में भी शरीर के हिस्से खुले रह जाते हैं। मेरी इस बात से एक हिंदू औरत सुनीता भी इत्तेफाक रखती है। सुनीता खिड़की एक्सटेंशन में कृष्णा मंदिर के पास किराने की दुकान चलाती है। उसकी दुकान मेरी गली की आख़िर में पड़ती है। जिस दिन मैं उससे पहली बार बातचीत करने गयी तो उसने साड़ी पहन रखी थी। साड़ी में उसके पेट, बाहों, गर्दन, छाती और पीठ का कुछ हिस्सा दिखाई दे रहा था। सुनीता ने बताया कि उसके माता-पिता ने उससे पश्चिमी फैशन के कपड़े पहनने की मनाही की थी। उनका कहना था कि उसे सीधे-सादे कपड़े जैसे कुर्ता और सलवार सूट आदि पहनने चाहिए। अब वह अधेड़ हो चुकी है, लेकिन कपड़े पहनने के मामले में वह बचपन में सुनी गयी हिदायतों पर आज भी अमल करती है। सुनीता विवाहित है और उसकी उम्र 56 साल है। उसके दो बेटे भी हैं। उसे किराने की यह दुकान चलाते हुए दस साल हो चुके हैं। पहले वह लोगों के घरों में आया का काम किया करती थी। उसने यह काम पांच सालों तक किया, लेकिन बाद में उसने यह काम छोड़ दिया क्योंकि एक तो यह काम बेहद थकाऊ था और दूसरे, उसे एक घर से दूसरे घर जाने में परेशानी होती थी। पारंपरिक सोच तो यह है कि लड़कियों को घर में रहना चाहिए और घरेलू कामों में मदद करनी चाहिए। औरतों के लिए भी यही नुस्खा है कि उन्हें घर के अंदर रहना चाहिए और घर-बार संभालना चाहिए। लेकिन कुछ मामलों में जब लड़कियां घरेलू काम संभालने लगती हैं तो उनकी मांओं को घर से बाहर काम करने की सहूलियत मिल जाती है। सुनीता भी केवल घर में बैठ कर वक़्त ज़ाया नहीं करना चाहती थी। वह पैसे कमाना चाहती थी लिहाज़ा उसने आसपास के इलाक़े में पौधे और फूल बेचने का काम शुरू किया। लेकिन, दुर्भाग्य से उसे यह काम बंद करना पड़ा क्योंकि उसे देखकर लोगबाग यह कहने लगते थेरू ‘जाओ, आसपड़ोस में धक्के खाने के बजाय जाकर कोई क़ायदे का काम ढूंढो या फिर घर बैठो’।

ऐसी तल्ख़ बातें सुनकर सुनीता गुस्से से भर गयी। उसने सोचा कि उसे यह काम छोड़ कर घर बैठ जाना चाहिए। लेकिन वह बंध कर नहीं रह सकती थी क्योंकि उसके माता-पिता ने उसे बचपन से ही बाहर काम करने की छूट दे रखी थी। इसलिए आखि़र में उसने अपने बेटों की मदद से खिड़की एक्सटेंशन में कृष्णा मंदिर के पास किराने की दुकान खोलने का फ़ैसला किया। उन्होंने यह दुकान बीस लाख रूपये में ख़रीदी थी। यह काम शुरू करने के बाद उसे लोगों से कभी उल्टी-सीधी बात सुनने को नहीं मिली।

दुकान खोलने के बाद सुनीता को शुरू में काफी संघर्ष करना पड़ा क्योंकि उसके यहां बहुत ग्राहक नहीं आते थे। लेकिन आज दुकान खोलने के दस साल बाद ग्राहकों के बीच उसकी अच्छी-ख़ासी साख़ है। गली के बाक़ी दुकानदारों और फेरीवालों के साथ भी उसके अच्छे संबंध हैं। आसपास के लोग उस पर यक़ीन करते हैं और वह भी लोगों पर भरोसा करती है, इसलिए वह उन्हें अक्सर उधार पर सामान दे देती है। चूंकि इस इलाक़े में बाहर से आए मर्दों की संख्या अच्छी-ख़ासी है, इसलिए उसके ज़्यादातर ग्राहक भी मर्द ही हैं। यहां रहने वाला एक ट्रांसजेंडर समूह भी उससे उधार सामान लेता है। वह भले और दयालु स्वभाव की औरत है, इसलिए वह उधार न चुका पाने वाले लोगों को भी माफ़ कर देती है।

सुनीता के दोनों बेटे शादियों में टेंट लगाने का काम करते हैं। मैंने उससे पूछा कि जब उसके दोनों बेटे अच्छा कमा रहे हैं तो वह घर में बैठकर आराम क्यों नहीं करती। इस पर उसने यह जवाब दिया- ‘मेरे एक बेटे की शादी हो चुकी है। उसकी घरवाली बीमार रहती है इसलिए हमें उसकी दवाईयों पर भी ख़र्च करना पड़ता है। मेरे बेटों का यह काम पूरे साल नहीं चलता। दूसरी बात, उम्र बढ़ने के साथ अगर मुझे घर बैठने की आदत पड़ गयी तो मैं आलसी हो जाऊंगी। इस बात से बचने के लिए मैं हर दिन दुकान पर आती हूं। मेरे शरीर में जब तक ताक़त है, मैं यह काम बिना किसी की मदद लिए करती रहूंगी’।

सुनीता महसूस करती है कि पिछले कुछ बरसों के दौरान उसके ग्राहकों की संख्या में कमी आई है। इसकी एक वजह तो यह है कि आसपास के इलाक़ों में किराने की और भी बहुत सी दुकानें खुल गयी हैं। इस दौरान कई सुपरमार्केट भी खुल चुके हैं। उसका कहना है- ‘कोई भी लकदक करती और अच्छी जगह से सामान ख़रीदने के बजाय मेरी दुकान पर क्यों आना चाहेगा ? अब तो मेरे वे पुराने ग्राहक भी उन्हीं बड़ी दुकानों पर जाने लगे हैं जिनके साथ मेरे अच्छे संबंध रहे हैं ’। इसकी दूसरी वजह बड़ी कंपनियों द्वारा किराने के सामानों की ऑनलाइन बिक्री और होम डिलिवरी भी है। सुनीता कहती है- ‘लोगबाग दिनोंदिन आलसी होते जा रहे हैं। उन्हें बाहर निकलने के बजाय घर में पड़े रहना अच्छा लगता है’।

सुनीता अपनी दुकान रात के दस बजे बंद करती है। मैंने उनसे पूछा कि जब दिल्ली में औरतें इतना असुरक्षित महसूस करती हैं। सड़क पर जाती अकेली औरतों का अपहरण कर लिया जाता है और उन्हें यौन-हमले का शिकार बनाया जाता है तो क्या ऐसे में उन्हें देर रात गए अकेले काम करने से डर नहीं लगता? इस पर उसने कहा- ‘नहीं, मुझे बिल्कुल डर नहीं लगता क्योंकि मैं अपने इलाके को अच्छी तरह जानती हूं’। इससे मुझे यह समझ आया कि पारंपरिक संस्कृतियों में घर से बाहर निकलने वाली महिलाएं केवल अपने ख़ास रंग-ढंग के कपड़ों के कारण ही सुरक्षित नहीं रहती, बल्कि इस मामले में ज़्यादा अहम बात यह होती है कि अपने आसपास के लोगों, काम करने की जगहों और आम तौर पर अपने इलाक़े के साथ उनका संबंध कैसा होता है। अगर अपने माहौल के साथ उनका संबंध अच्छा होता है तो वे सड़कों पर पूरे आत्मविश्वास के साथ घूम-फिर सकती हैं और सार्वजनिक जगहों में अपने साथ किसी तरह की शारीरिक हिंसा, सामाजिक निंदा और अच्छे-बुरे की आशंका के बिना काम कर सकती हैं।

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑