The pleasure of collective cooking

Fareeda |

Fareeda lives in one of those new four storied buildings that has popped up in the recent years in the Khirkee Village. Fareeda is a middle-aged woman, newly migrated to New Delhi, from Kabul, Afganistan. She has a very elegant look and her reserve and humble character will restrain anybody from approaching her.

She lives in the third floor with her daughter, son and her husband. The door opened with a sweet smile on Fareeda’s face, welcoming us to her flat. She directed us to her living room, which is quite spacious with big couches and the floor is fully covered with red Persian carpet with a beautiful design on it.

We sat and started talking about her experience of cooking food. In the meantime, her son came in with a glass of mango juice and a big bowl containing big pieces of watermelon. She introduced us to her son who helped us in translating from Persian to English. Fareeda can understand English and speak very slowly. So, it was nice to have her son with us for the translation.

While talking about how long the women in Afghanistan spend time in the kitchen, she talked about her own grandmother and mother. She recalls that her grandmother, mother and the other women in the family in late 1940s used to spend hours in the kitchen, without any break. They used to cook breakfast, lunch and then dinner. They used to get up in the early dawn organizing the wood for cooking and then arranging for food. She says that she sometimes gets amazed thinking, how, they could dwell in the smoky room without any complain, all day. In between, her mother and aunts would come out of the busy kitchen and take care of the demands made by their husbands and the kids. ‘This might be a pretty worked up situation for my mother and others’, she said. The only break they took was to have a tea break in between cooking and other work. She recollects how the women in her family used to toil all day in the household, without any male member’s help. Definitely, these women never went out to earn money but the amount of physical and mental labour they put in was unbelievable.

Compared to that, she thinks that after she got married, she was staying in a flat with her husband and kids. In this case she became quite free from the shackles of staying confined to do household work. The other reason was that she started working in an office. She used to spend very less time in the kitchen and had also got restricted time in terms of working in the household. Moreover, she had the privilege to use electric heater and gas, which helped her thousand times more, in making food faster and fulfilling others demand in the family. Just because she was not staying with an extended family, she had got the freedom of taking her own decision in making food. So, she used to prepare her breakfast and lunch the evening before. This was to ensure that she did not have to rush in the morning. This was quite acceptable within her immediate family by her husband, especially.

However, when she was asked whether her husband had any role in the kitchen? She suddenly pointed him out and told, while laughing, that once she had come back from the office, she was the one preparing dinner and serving everything on the table. After that she went inside the kitchen to clean everything. After sometime, when she had come back to the table, to join her husband for dinner, she found that her husband had eaten all the food leaving nothing for her. She said that there was no role for her husband in the kitchen and most of the household work was done by her even if she was working. She said that though she loves to cook, she does not want to spend all her time doing that. Moreover, Fareeda always felt that for a woman, it was just not the freedom to work in an office going out of the household. Yet this was another kind of an added task, as she had to keep a balance between both the world.

Now coming to Khirkee, she said that it is a bit tough to adjust to the Indian food but, she gets most of the vegetables. Buying products like cheese, jam, etc. are so expensive here and she does not get good choice. Her family is upset that they don’t get good quality food and for the Afghans, one of their main diet is fruit. She cooks at home, never tries to buy food from the restaurant. Smiling, she said that now, her children help her in the kitchen, though, she is the main person to decide everything.

While talking about how women in Afghanistan generally take out their leisure time from the hectic cooking and feeding the family members, Fareeda talked about the one of the festivals only for the women in Afghanistan. The festival focuses on preparing food collectively. It is called the ‘Samanak’ Festival. This happens during the last days of winter, welcoming a way to the first green of spring It is a religious tradition among women, a plea for socializing with other people, especially with other women. She said that in this festival, the collective planning, making decision and cooking are the key aspects.

The women not from one’s own family relations, but from the neighbourhood, participates and collectively does the cooking.

The performance around preparing and cooking the wheat requires planning, so that the women divide the tasks a few days ahead of time. The women from the community pour one or two kilos of clean, wheat (that is not grounded) into a large container and places it on a roof under the sun covering it with a veil to prevent insects and dirt from entering the bowl and to keep it away from evil eyes. The container is kept on the roof for a week, absorbing spring rain and sun, till it starts the germination process. When the wheat has grown to about four inches, a group of women cut the tender green sprouts. She said that, If they fall in pairs, it is considered to be good luck, but, if they fall in odd numbers, it is considered to be a bad omen, forewarning natural calamity, war and misfortunes. To prevent and counter the bad omen, they distribute free bread to the poor in order to keep away from its dark shadow.

Nonetheless, the meal is prepared during the day and cooked during the night by the women in the open air of the courtyard. During this process, the women dance and sing around the fire. They do so while making the special food. The sprouted wheat is cut by teenage girls and then poured into pots, until all the juice is extracted. The role of the older women is to mix the extract with flour in a huge pot and stir the mixture every few minutes on a wood fire, but, at a later stage, the juice is extracted in a large mixer grinder. So here, the women take decisions about organizing cultural events. They plan, make budget and strategize for the performance collectively. Thus, through this ritual, women not only accomplish the religious and cultural events, but, also they emerge as the real decision makers, which is very tough in daily life.


समूह में खाना पकाने का मजा ही कुछ और है

फरीदा |


फरीदा उन चार मंजिला मकानों में से एक में रहती हैं जो हाल ही में खिड़की गांव में बने हैं। वह मिडिल एज की हैं और अभी कुछ ही समय पहले काबुल, अफगानिस्तान से दिल्ली आई है। वह सुंदर हैं लेकिन उनका संकोची और विनम्र स्वभाव किसी को भी उनके करीब आने से रोकता है।

फरीदा मकान की तीसरी मंजिल पर अपने पति, बेटी और बेटे के साथ रहती हैं। फ्लैट का दरवाजा खटखटाने पर वह मुस्कुराते हुए हमारा स्वागत करती हैं और हमें भीतर आने का इशारा करती हैं। हम लिविंग रूम में पहुंचते हैं। यह कमरा काफी बड़ा है जिसमें बड़े बड़े काउच रखे हैं। फर्श पर लाल रंग का पर्शियन कालीन बिछा हुआ है जिस पर खूबसूरत डिजाइन बने हैं।

हम बैठकर उनसे खाना पकाने के उनके अनुभवों के बारे में बात करने लगते हैं। तभी उनका बेटा कमरे में मैंगो जूस का गिलास लेकर दाखिल होता है। इसके साथ ही, उसके हाथ में तरबूज के बड़े टुकड़ों से भरा बड़ा सा कटोरा भी है। वह हमारा परिचय अपने बेटे से कराती हैं जोकि पर्शियन से अंग्रेजी में तर्जुमा करता है। फरीदा अंग्रेजी समझ सकती हैं लेकिन बहुत कम बोल पाती हैं। अच्छा है कि उनका बेटा हमारी मदद को आया है।

यह बताते हुए कि अफगानिस्तान में औरतों का कितना समय रसोईघर में बीतता है, वह अपनी दादी और मां की याद करती हैं। वह बताती हैं कि उनकी दादी-नानी, मां और दूसरी औरतें चालीस के दशक में किचन में घंटों बिताती थीं। आराम के लिए थोड़ा भी समय नहीं मिलता था। वे नाश्ता, दोपहर का खाना और फिर रात का खाना पकाया करती थीं। खाना पकाने के लिए लकड़ियों को जमाना होता था और यह काम तड़के शुरू हो जाता था। फिर खाना पकाने का काम चालू होता था। वह कहती हैं कि उन्हें यह समझ नहीं आता कि वह बिना किसी शिकायत के कैसे उस धुएं भरे किचन में काम करती रहती थीं। बीच-बीच में उनकी मां और आंटियां अपने पति और बच्चों की फरमाइशें भी पूरी करती रहती थीं। फरीदा कहती हैं, ‘यह मेरी मां और दूसरों के लिए काफी थकाऊ स्थिति होती होगी।‘ उन्हें खाना पकाने और दूसरे कामों के बीच थोड़ा सा ब्रेक तभी मिलता था, जब चाय पीने का समय होता था। वह याद करती हैं कि उनके घर की औरतें बिना मर्दों की मदद के, सारा दिन घर काम में लगी रहती थीं। बेशक, उन औरतों ने कभी बाहर जाकर नौकरियां नहीं कीं लेकिन जितनी शारीरिक और मानसिक मेहनत वे करती थीं, वह अविश्वसनीय है।

उन औरतों की तुलना में फरीदा को उतनी मेहनत नहीं करनी पड़ी। शादी के बाद वह अपने पति और बच्चों के साथ फ्लैट में रहीं। इस लिहाज से उन्हें घर काम में ज्यादा फंसना नहीं पड़ा। इसकी एक वजह यह भी थी कि वह ऑफिस में काम करने लगी थीं। उन्हें रसोई के कामों में इतना समय नहीं देना पड़ा। चूंकि घर काम के लिए उनके पास इतना समय होता ही नहीं था। इसके अलावा इलेक्ट्रिक हीटर और गैस जैसे उपकरणों ने भी खाना तेजी से पकाने और परिवार के सदस्यों की मांग पूरी करने में उनकी बहुत मदद की। चूंकि वह संयुक्त परिवार में नहीं रहतीं इसलिए खाना पकाने से जुड़े फैसले खुद कर सकती हैं। वह सुबह का नाश्ता और दोपहर का खाना, एक दिन पहले शाम को बना लेती हैं। इससे यह सुनिश्चित होता है कि उन्हें सुबह देर नहीं होगी। इससे किसी को भी, खासकर उनके पति को कोई परेशानी नहीं।

यह पूछने पर कि क्या उनके पति रसोई में उनकी कोई मदद करते हैं, वह उनकी तरफ इशारा करके हंस देती हैं। फिर कहती हैं कि काम से लौटने के बाद वही रात का खाना बनाती हैं और सभी को परोसती भी हैं। फिर वह किचन की सफाई करती हैं। कई बार तो यह भी होता है कि जब वह साफ-सफाई के बाद कमरे में खाना खाने के लिए आती हैं तो देखती हैं कि पति सब कुछ सफाचट कर चुके होते हैं। उनके लिए खाने को कुछ नहीं होता। वह बताती हैं कि बाहर काम करने के बावजूद रसोई में उनके पति की भूमिका नहीं। वही सारा घर काम करती हैं। फरीदा बताती हैं कि हालांकि उन्हें खाना पकाना पसंद है लेकिन वह अपना सारा समय उसमें नहीं लगाना चाहतीं। उन्हें महसूस होता है कि घर से बाहर काम करके ही औरत आजाद नहीं होती। यह उसके लिए अतिरिक्त श्रम है क्योंकि उसे घर और बाहर, दोनों के बीच संतुलन बनाना होता है।

खिड़की के बारे में बात करने पर फरीदा कहती हैं कि भारतीय खाने से एडजस्ट करना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि यहां अधिकतर सब्जियां ही मिलती हैं। चीज, जैम वगैरह यहां बहुत महंगा है और अच्छी क्वालिटी का भी नहीं होता। उनका परिवार भी परेशान होता है क्योंकि उन्हें अच्छी क्वालिटी का खाना नहीं मिलता। अफगान लोगों के लिए फल बहुत जरूरी होते हैं। वैसे वह घर पर ही खाना बनाना पसंद करती हैं, रेस्त्रां से खाना मंगाना उन्हें अच्छा नहीं लगता। वह हंसकर कहती हैं कि अब बच्चे उनकी रसोई में मदद करते हैं, हालांकि अभी भी वही सारी चीजें तय करती हैं।

यह बताते हुए कि अफगानिस्तान में औरतें किस तरह अपने व्यस्त समय में से अपने लिए समय निकालती हैं, फरीदा बताती हैं कि अफगानिस्तान में एक त्योहार सिर्फ औरतों को लिए है। इस त्योहार पर सब मिलकर खाना पकाते हैं। यह त्योहार समानाक कहलाता है। सर्दियों की आखिरी दिनों में मनाए जाने वाले इस त्योहार में बसंत की पहली हरितिमा का स्वागत किया जाता है। यह महिलाओं द्वारा मनाई जाने वाली एक धार्मिक परंपरा है जिसका उद्देश्य दूसरी औरतों के साथ मिलना-जुलना होता है। वह कहती हैं कि इस त्योहार का एक उद्देश्य साथ-साथ मिलकर तैयारी करना, फैसले लेना और खाना पकाना है।

इस त्योहार पर न सिर्फ परिवार की, बल्कि पास-पड़ोस की औरतें मिलकर खाना पकाती हैं।

इसमें गेहूं से व्यंजन बनाया जाता है। चूंकि गेहूं पकाने के लिए पहले से योजना बनानी पड़ती है इसलिए औरतें काम बांट लेती हैं। समुदाय की औरतें एक से दो किलो गेहूं साफ करती हैं, फिर उसे बड़े बर्तन में भरकर धूप में रखती हैं। उसे ऊपर से ढंका जाता है ताकि उसमें कीड़े-मकोड़े, धूल वगैरह न जाए और किसी की बुरी नजर न लगे। एक हफ्ते तक गेहूं रखा जाता है। इस दौरान उसमें अंकुर निकलने शुरू होते हैं। जब वह अंकुर चार इंच तक बढ़ जाते हैं तो उन्हें काट दिया जाता है। अगर वह जोड़े में आते हैं तो यह शगुन माना जाता है। एक विषम संख्या में आते हैं तो अपशगुन। मतलब प्राकृतिक आपदा, युद्ध आदि का संकेत होता है। अपशगुन को रोकने के लिए गरीबों के बीच रोटियां बांटी जाती हैं।

इस त्योहार में दिन में खाने की तैयारी की जाती है और रात को आंगन में खाना पकाया जाता है। खाना पकाते हुए औरतें नाचती-गाती हैं। अंकुर वाले गेहूं को काटने का काम किशोरियों करती हैं और फिर उन्हें बर्तन में डाला जाता है ताकि पूरा रस बाहर आ जाए। बड़ी औरतों का काम यह होता है कि उस रस को बड़े बर्तन में मैदे के साथ मिलाएं और फिर जलती लकड़ी पर उस बर्तन को चढ़ाकर बीच-बीच में चलाती रहें। आखिर में उस जूस को मिक्सर ग्राइंडर में डाला जाता है। यहां सांस्कृतिक कार्यक्रमों के फैसले लेने का जिम्मा औरतों का होता है। वे एक साथ योजना बनाती हैं, बजट बनाती हैं और तय करती हैं कि काम कैसे किया जाए। इस त्योहार के जरिए औरतें न सिर्फ धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम करती हैं बल्कि अपने फैसले खुद लेती हैं जो असल में लेने बहुत मुश्किल होते हैं।

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑