Growing up with Street Food

Vidhi |

I am a 16 year old Nepali girl. I have been living in Khirkee for the past 13 years. As a part of my growing up, the street food of the lanes of Khirkee and Hauz Rani, every evening, played a significant role. I believe that it is important for every young folk who lives in this locality.

There are so many street foods in the lanes and the bylanes of Khirkee that even if anybody is hungry, one’s empty stomach is easily satisfiable with just 10 rupees. One can get cheap food as well delicious food. In the lanes of Khirkee, as one enters the streets, one witnesses that the streets are full of different food vendors selling samosa, chowmein, momos, French fries , jalebi, chole kulche on a cart or in the mobile stalls. However, my favorites are momos, chilli potatoes and samosas. What I like the most is Momo. I usually go to two momo shops. One is my aunt’s and the other one is in Hauzrani.

At first, I am going to talk about my aunt’s shop. Then, I will talk about the shop in Hauz Rani, which too, has delicious momos and red chilli sauce.

The name of my aunt’s shop is Sonu Chinese Food. Her name is Shanti. When I went to talk to her, she was making momos. I asked her, “Can I talk to you”? She told me that she is busy but she insisted that if I have one plate of momos, she will talk to me and tell me how these momos are made. My aunt is working here for the past two years. Apart from my aunt, her husband and two cooks help her out in the shop. There is a chair and a small table inside the shop. Therefore, at a time, only one person can sit and eat there. The seating arrangement is inside the kitchen itself, that’s why people prefer take-aways. But outside her shop there is a table where one can stand and eat.

She not only serves momos but also stocks up chowmein, chicken fried rice, etc. But what I like the most in my aunt’s shop is a plate full of momos. In my aunt’s shop, the momos are priced at rupees 40 and 60, which is a little steep compared to the stall at Hauzrani. I like to eat ‘Shefali’ (Nepali Savoury) also, but sadly it has now disappeared from the lanes of Khirkee. Shefali is a delicacy prepared by stuffing chicken keema inside the dough. After rolling the dough, it is fried in oil. My aunt told me that people don’t know what “Shefali” is. In any case, there are very few people who come and buy Shefali. Most of the times it goes waste. Now, she only prepares Shefali on order. Her shop remains closed on Tuesdays; on other days, she opens it at 10 am and closes by 11 pm. She knows how to cook three types of food: Indian, Nepali and Korean.

Now let me talk about the other momo shop which is in Hauzrani. The vendor here, offers the momos at a very low price. Momos that are available at the street stalls across Delhi usually range from rupees 10 to rupees 40. Not just momos, this is applicable for other street foods as well. In this shop, only two varieties of street foods are available which include momos and chilli potatoes. Both happen to be my favorites. Although, Roshan’s shop is only two months old, he attracts many customers. His chosen location is ideal simply because there is a chicken shop and a juice counter on either side of his stall.

Both boys and girls come here. According to him, young Manipuri girls visit often. Although, I think that the customers that he was referring to are Azara Afghans who look like the Manipuris.

When I was talking to Roshan, I found that instead of him, some of his young customers were keener to respond to my questions. So, I talked to one of the boys standing there. I asked him, “Do you like momos made by Roshan?” He agreed and said that his momos are very cheap. He also added that he preferred chicken momos compared to the vegetable ones. I wonder if the Momo fillings are made of nutrella instead of chicken.

Personally, I liked his chilli potato more, as it is cheap, crispy and tasty.

He told me that he doesn’t discriminate between boys and girls. I asked him what he means by this statement. He told me that he gives discounts to all the female customers who visit his stall. Roshan doesn’t make much profit but still he works, as it is his daily source of income.

After reading about these, you must be tempted to try out some of them. Now, let us get to the other varieties of street food.

The burger shop is one of the famous shops in the Khirkee area. It is at the corner of Hauzrani, near the Shutter, the one we had painted and is beside the cylinder shop. His burger is very tasty. It is tastier than MacDonalds and guess what? It is available for just rupees 10.

In the beginning, he faced lots of problems because he was new in the area. Police used to disturb him. They used to tell him that “move your stall from here as it is in the corner of road”. He faced problems for 1-2 months and after that everything became calm. He is still working in that area and it has now been 15 months.

This burger shop owner is from Gorkhapur. He lives somewhere near khirkee. He did not bring all his stuffs at one go as transportation costs are high. He brings a few things during different phases.

His opens his shop at 5:00pm and closes it at 10:00 pm.

People come from schools, parks, and the ones who live in that area also come to the shop to buy burgers.

Usually, the girls come between 5:00pm to 6:00pm. They are always in a group of 2-3. Mostly, they are teenagers. The girls never come alone. Either, they are in a group or their family members travel with them.

Boys come between 7:00to 8:00 pm. They come alone as well as in groups.

The owner of the burger shop has lots of permanent customers and both girls and boys find him nice. They do not argue with him and they do not ask for extra helping. They give him money and sometimes pay him a little extra like 5 rupees more than it is. I think that they do so out of mercy. The owner says that “in my shop there are lesser number of girls and more number of boys as customers”.

I started to think where do the girls like to visit often. Their favourite stop happens to be the Golgappa shop.

The Golgappa Bhaiya is from UP. He lives in Khirkee now. He has been living in khirkee for the past 2 years. He struggled a lot. In the earlier years, he used to have a stall of peanuts, then, after a month, he had a juice shop. After a while, he put up a stall of Golgappa. It didn’t work in beginning. He moved his shop to INA and sold Chola Batura for 2-3months

He returned to Khirkee and again opened his Golgappa shop. Wherever he finds an empty space, he puts up his stall there. He sells 3 food items- golgappa, burger, tikki. He sells it for Rs 10-50.

He opens his shop at 5:00 pm and closes it at 10:00 pm. He usually sees more girls in his shop compared to boys. A lot of young Afghani girls and working ladies from different communities visit his stall. Boys come between 6:00pm to 9:00pm but they don’t really follow specific timings. He makes about 200-250 per day.

Street foods enjoy popularity amongst boys and girls from various communities, particularly during the evening. However, the craving continues throughout the night. For me, the best part about these Street foods in the lanes of Khirkee is the fact that a lot of options are available. Certainly, it is an interesting place, not just for a Momo lover like me but because it includes a variety of cuisines.


स्ट्रीट फ़ूड का सफ़रनामा

विधि |

मै 16 साल की नेपाली लड़की हूं। पिछले 13 सालों से खिड़की में रह रही हूं। खिड़की और हौज रानी की गलियों में हर रोज शाम को बिकने वाला स्ट्रीट फूड मेरे बचपन का एक अहम हिस्सा हैं। मेरा मानना है कि इस मोहल्ले में रहने वाले हर बच्चे के जीवन में इसकी बड़ी भूमिका है।
खिड़की की गलियों में तरह-तरह के खाने मिलते हैं। अगर आप भूखे हैं तो सिर्फ 10 रुपए में आपका पेट भर सकता है। यहां सस्ता और स्वादिष्ट खाना मिलता है। जब आप खिड़की की गलियों में घुसते हैं तो आपको तरह-तरह के लोग अपनी ठेलियों या गाड़ियों में खाने बेचते हुए मिल जाते हैं जैसे समोसा, चाऊमीन, मोमोज़, फ्रेंच फ्राइज़, जलेबी, छोले-कुलचे। मेरा पसंदीदा मोमोज़, चिली पोटैटो और समोसा है। सबसे ज्यादा अच्छे मोमोज़ लगते हैं। मैं दो दुकानों से मोमोज़ खाती हूं। एक मेरी आंटी की दुकान है और दूसरी हौज रानी में है।
सबसे पहले मैं अपनी आंटी की दुकान के बारे में बताती हूं। फिर हौज रानी की दुकान के बारे में बताऊंगी जहां स्वादिष्ट मोमोज़ और रेड चिली सॉस मिलती है।
मेरी आंटी की दुकान का नाम सोनू चाइनीज़ फूड है। आंटी का नाम शांति है। जब मैं उनसे बात करने गई तो वह मोमोज़ बना रही थीं। मैंने उनसे पूछा, ‘क्या मैं आप से बात कर सकती हूं?’ उन्होंने कहा कि वह बिजी हैं लेकिन कहा कि अगर मैं उनसे एक प्लेट मोमोज़ लेती हूं तो वह मुझसे बात कर सकती हैं और बता सकती हैं कि मोमोज़ कैसे बनते हैं। मेरी आंटी वहां दो साल से काम कर रही हैं। उनके अलावा, उनके पति और दो कुक वहां काम करते हैं। दुकान के अंदर एक कुर्सी और एक छोटी टेबल लगी हुई है। इसलिए वहां सिर्फ एक बार में एक ही व्यक्ति बैठकर खा सकता है। बैठने की व्यवस्था किचन में है इसलिए लोग ज्यादातर खाना पैक कराके ले जाना पसंद करते हैं। यूं दुकान के बाहर भी एक टेबल है जहां आप बैठकर खा सकते हैं।
वह सिर्फ मोमोज़ ही नहीं बेचतीं, चाऊमीन, फ्राइड राइस वगैरह भी बेचती हैं। लेकिन दुकान के बारे में मुझे सबसे अच्छा यह लगता है कि यहां प्लेट भर कर मोमोज़ मिलते हैं। इनका दाम 40 रुपए और 60 रुपए है। हौज रानी में बाकी दुकानों के मुकाबले यह दाम थोड़ा ज्यादा है। मैं सेफाली भी खाना चाहती हूं जोकि एक नेपाली व्यंजन है लेकिन दुख की बात यह है कि यह अब खिड़की की गलियों में मिलता ही नहीं। सेफाली में मैदे के अंदर चिकन कीमा भरा जाता है और फिर उसे गुझिया के आकार में बनाकर तेल में तला जाता है। आंटी कहती हैं कि लोग सेफाली के बारे में नहीं जानते। इसे खाने वाले बहुत कम होते हैं। अगर इसे पहले से पका कर रख दो तो कई बार यह बिकता ही नहीं। इसलिए अब वह ऑर्डर पर सेफाली बनाती हैं। मंगलवार को उनकी दुकान बंद होती है। बाकी के दिन वह सुबह 10 बजे दुकान खोलती हैं और रात 11 बजे बंद करती हैं। वह तीन तरह का खाना पकाना जानती हैं- भारतीय, नेपाली और कोरियाई।
इसके बाद मैं दूसरी मोमो शॉप के बारे में बताती हूं जो हौज रानी में है। इस दुकान का मालिक बहुत कम कीमत पर मोमोज़ बेचता है। दिल्ली की सड़कों पर बिकने वाले मोमोज़ का दाम 10 रुपए से 40 रुपए के बीच होता है। न सिर्फ मोमोज़, बल्कि दूसरी चीजों के दाम में भी काफी फर्क होता है। इस दुकान में सिर्फ दो ही चीजें मिलती हैं- मोमोज़ और चिली पोटैटो। दोनों ही मेरी पसंदीदा हैं। हालांकि रोशन की दुकान सिर्फ दो महीने पुरानी है लेकिन वहां बहुत से ग्राहक आते हैं। उसकी दुकान भी बहुत अच्छी जगह पर है क्योंकि उसकी एक तरफ चिकन की दुकान है और दूसरी तरफ जूस काउंटर है। यहां लड़के और लड़कियां दोनों आते हैं। वह बताता है कि उसके यहां मणिपुरी लड़कियां खूब आती हैं। हालांकि मुझे लगता है कि जिन्हें वह मणिपुरी लड़कियां बता रहा है, वह हजरा अफगानी लड़कियां हैं जो मणिपुरी लड़कियों जैसी लगती हैं।
रोशन से बात करते हुए मुझे लगा कि वहां खड़े कुछ लोग मेरे सवालों के जवाब देने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। मैंने वहां खड़े एक लड़के से बात करनी शुरू कर दी। मैंने उससे पूछा, ‘तुम्हें रोशन के मोमोज़ पसंद हैं?’ उसने हांमी भरी और बोला कि उसके मोमोज़ सस्ते होते हैं। उसने यह भी कहा कि वेजिटेबल मोमोज़ के बजाय, उसे चिकन भरे मोमोज़ ज्यादा पसंद हैं। मैं सोचती हूं कि क्या मोमोज़ की फिलिंग चिकन के बजाय न्यूट्रेला की बनी होती है।
मुझे खुद तो चिली पोटैटो ज्यादा अच्छे लगते हैं जोकि सस्ते, कुरकुरे और स्वादिष्ट होते हैं।
रोशन का कहना है कि वह लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव नहीं करता। मैंने उससे पूछा कि इस बात का क्या मतलब है। उसने बताया कि महिला ग्राहकों को वह डिस्काउंट देता है। हालांकि वह बहुत ज्यादा कमाई तो नहीं करता लेकिन वह दुकान इसलिए लगाता है क्योंकि वही उसके आय का जरिया है।
यह सब पढ़कर, आपका मन भी करेगा कि क्यों न यह स्वादिष्ट व्यंजन चखा जाए। चलिए, अब हम दूसरे किस्म के स्ट्रीट फूड का आनंद लेते हैं।
खिड़की की मशहूर दुकानों में से एक है बर्गर शॉप। वह हौज रानी के कोने में उस शटर के पास है, जिसे हमने पेंट किया था। सिलिंडर की दुकान के बगल में। उसके बर्गर बहुत स्वादिष्ट होते हैं। मैकडोनाल्ड से भी ज्यादा। और अंदाजा लगाइए कि उसकी कीमत कितनी है- सिर्फ 10 रुपए।
शुरुआत में इस दुकानदार को बहुत परेशानी हुई क्योंकि वह इस इलाके में नया था। पुलिस अक्सर उसे परेशान करती थी। कहा करती थी कि उसे अपनी दुकान यहां से हटा देनी चाहिए क्योंकि यह सड़क का कोना है। 1-2 महीने तक उसे परेशानियां होती रहीं और फिर धीरे-धीरे सब शांत हो गया। अब 15 महीने से वह यहां दुकान लगा रहा है।
इस दुकान का मालिक गोरखपुर का रहने वाला है। वह खिड़की के पास ही कहीं रहता है। सामान एक साथ लाना महंगा पड़ रहा था, इसलिए वह धीरे-धीरे एक-एक करके, कई चरणों में सारा सामान लेकर आया।
वह शाम 5 बजे दुकान खोलता है और रात 10 बजे तक दुकान बंद कर देता है।
स्कूल, पार्क से लौटने वाले और यहां रहने वाले लोग उसकी दुकान से बर्गर खरीदते हैं।
आम तौर पर लड़कियां 5 से 6 बजे के बीच आती हैं, वह भी 2-3 के समूह में। अधिकतर टीनएजर होती हैं। अकेले वे कभी नहीं आतीं। या तो अपनी सहेलियों के साथ आती हैं या फिर अपने परिवार के दूसरे सदस्यों के साथ घूमने आती हैं, तब बर्गर लेती हैं।
लड़के 7 से 8 बजे के बीच आया करते हैं। वे अकेले भी आते हैं, समूहों में भी।
बर्गर की इस दुकान के मालिक के कई स्थायी ग्राहक भी हैं। लड़कियां और लड़के दोनों उन्हें पसंद करते हैं। वे पैसों को लेकर उनसे बहस नहीं करते और अलग से कुछ भी नहीं मांगते। कई बार पैसे देते समय 5 रुपए एक्स्ट्रा भी दे देते हैं। शायद वे दया भाव से ज्यादा पैसे दे देते हैं- ऐसा मुझे लगता है। दुकान के मालिक का कहना है, ‘मेरी दुकान में लड़कियां कम आती हैं, लड़के ज्यादा आते हैं।‘
मैं सोचने लगती हूं कि लड़कियां कहां ज्यादा जाती हैं। उनकी पसंदीदा जगह गोलगप्पे का ठेला है।
गोपगप्पे वाले भइया उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं लेकिन अब दिल्ली ही उनका ठौर है। वह पिछले 2 सालों से खिड़की में रहते हैं। उन्होंने बहुत संघर्ष किया है। शुरुआती दौर में वह मूंगफलियां बेचा करते थे, फिर एक महीने बाद उन्होंने जूस बेचना शुरू किया। फिर गोलगप्पे का ठेला लगाने लगे। पहले-पहले वह ठेला भी नहीं चला। उन्होंने 2-3 महीने आईएनए मार्केट में छोले-भटूरे बेचे।
लेकिन फिर खिड़की लौट आए और दोबारा गोलगप्पे बेचने लगे। अब उन्हें जहां भी खाली जगह मिलती है, अपनी दुकान लगा लेते हैं। वह 3 सामान बेचते हैं- गोलगप्पे, बर्गर, टिक्की। 10-50 रुपए के बीच वह अपना सामान बेचते हैं।
वह शाम बजे दुकान लगाते हैं और रात 10 बजे तक दुकान बंद कर देते हैं। उनकी दुकान पर लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा आती हैं। बहुत सारी अफगानी लड़कियां और अलग-अलग समुदायों की कामकाजी औरतें उनकी दुकान पर आती हैं। लड़के 6 से 9 बजे के बीच में किसी भी समय पर आते हैं। गोलगप्पे वाले भइया की रोजाना की कमाई 200 से 250 रुपए के बीच होती है।
स्ट्रीट फूड हर समुदाय के लड़के और लड़कियों के बीच खूब लोकप्रिय है, खासकर शाम को। लेकिन लजीज खाने की प्रबल इच्छा रात भर बनी रहती है। मेरे लिए खिड़की की गलियों के स्ट्रीट फूड की सबसे अच्छी बात यह है कि यहां बहुत सारे विकल्प मिलते हैं। यह मेरे लिए दिलचस्प जगह है, सिर्फ इसलिए नहीं क्योंकि यहां मोमोज़ मिलते हैं, बल्कि यहां हर तक के खाने का मजा उठाया जा सकता है।

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑